Wednesday, June 05, 2013

Itne Dino Baad ..



इतने दिनों के बाद मिले,
तुमने पहचान लिया, 
मैं पहचान न पाया.

कैसे हो ?” पूछ लिया,
जवाब भी पा लिया,
मैं पूछ न पाया.

अब अफ़सोस हो रहा है,
तुम सहज रहे कैसे ?
मैं क्यों रह न पाया ?

फिर कभी मिलोगे यूँ ही ?

मुझको अपना समझोगे ?

मैं तुमको अपना कह न पाया.

No comments:

Popular Posts