Thursday, February 09, 2012

Sirf Dil Se.....

फूल बनकर मुस्कुराना ज़िंदगी है…,
मुस्कुराके के गम भूलना ज़िंदगी है…,
मिलकर लोग खुश होते है तो क्या हुआ….,
बिना मिले दोस्ती निभाना भी ज़िंदगी है…
`
दिल की हस्ती मिट गयी होती,
और सारे दर्द बढ़ गये होते,
जिंदगी आप जैसे दोस्तो की अमानत है,
वरना हम तो कब के बिखर गये होते..
`
आओ अब कोई दोस्त ऐसा बनाया जाए
जिसे पलकों पे सजाया जाए
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ इस तरहा के ,की
वो रहे भूखा तो हमसे भी कुछ खाया ना जाए…
`
दोस्ती के भी अपने अंदाज़ होते है,
जागती आँखो मे ख्वाब होते है,
सोई आँखो मे सैलाब होते है,
क्यो की दोस्ती के रिश्ते तो नायाब होते है…….

कहो उसी से, जो ना कहे किसी से!
माँगो उसी से, जो देदे खुशी से !
चाहो उसे जो तुम्हे मिले किस्मत से !
दोस्ती करो उसी से जो हमेशा निभाए हँसी से..

No comments:

Popular Posts